ममता ने मोदी से पूछा, जवानों के शवों पर राजनीति करके शर्म नहीं आती ?



---रंजीत लुधियानवी, कोलकाता, 06 मार्च 2019, इंडिया इनसाइड न्यूज़।

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जवानों के शवों पर राजनीति करने वाला अवसरवादी राजनीतिज्ञ बताया और कहा कि प्रधानमंत्री यह साबित करने में लगे हैं कि वे अकेले ही देशभक्त हैं। ममता ने काली सूची वाली मोदी सरकार को आगामी लोकसभा चुनाव में सत्ता से हटाने का आह्वान करते हुए कहा कि चुनावों के बाद भाजपा अध्यक्ष अमित शाह और मोदी के पोस्टर भी देश के बाहर कर दें।

बीते पांच साल में आपने कुछ नहीं किया इसलिए मिसाइल, बम और जवानों के शव दिखाने की जरुरत पड़ी है। क्या आपको शर्म नहीं आती कि जवानों के शवों पर अवसरवादी राजनीति कर रहे हैं? हम लोग अपनी सेनाओं के साथ अपने देश के लिए खड़े हैं। लेकिन हम लोग मोदी के साथ नहीं हैं।

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला बोलते हुए कहा कि मोदी का विरोध करने वालों को पाकिस्तानी करार दिया जा रहा है। उन्होंने सवाल किया कि क्या केवल वह (प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी) ही हिंदुस्तानी हैं और उनके विरोध करने वाले सभी पाकिस्तानी हैैं?

उन्होंने कहा कि उनका एक ही धर्म है, वह है मानव धर्म। वह देश के पक्ष में हैं, भाजपा और मोदी के पक्ष में नहीं हैं। लोकसभा चुनाव में मोदी व अमित शाह का साइन बोर्ड देश से हटाकर ही हम दम लेंगे। ममता बनर्जी ने बुधवार को हावड़ा के डुमुरजला में आयोजित कार्यक्रम के दौरान कहा कि दो-तीन दिनों के बाद चुनाव की घोषणा हो जाएगी। केंद्र की सरकार का एक्सपायरी डेट समाप्त हो रही है। जब सरकार ही नहीं रहेगी, तो फिर इतने विकासमूलक योजनाओं की घोषणा का कोई अर्थ नहीं है।

उन्होंने मोदी सरकार पर जवानों के रक्त की राजनीति करने के आरोप लगाते हुए कहा कि वह सेना, नौ सेना व वायु सेना का सम्मान करती हैं, लेकिन मोदी बाबू का नहीं। चुनाव के पहले बंदूक, मिसाइल और जवानों के खून पर राजनीति हो रही है क्योंकि बीते 5 साल के दौरान कोई काम नहीं किया गया है।

मुख्यमंत्री ने बीते दिनों केंद्र सरकार से पाकिस्तान में की गई सैनिक कार्रवाई के बारे में विस्तार से जानकारी मांगी थी। इसके बाद से भाजपा और तृणमूल कांग्रेस में जुबानी जंग जारी हो गई है। तृणमूल कांग्रेस की ओर से विदेशी मीडिया में हमले के बारे में छपी रिपोर्टों को लेकर जमकर प्रचार किया जा रहा है, जिसमें बताया गया है कि हमले में किसी व्यक्ति की मौत नहीं हुई थी। तृणमूल कांग्रेस की ओर से आरोप लगाया जा रहा है कि भाजपा फौजी कार्रवाई की आड़ में घटिया राजनीति करके लोकसभा चुनाव में वोट हासिल करना चाहती है। जबकि भाजपा का आरोप है कि तृणमूल पाकिस्तान की बोली बोल रही है।

ममता ने कहा कि भाजपा को देशभक्ति पर हमें भाषण देना बंद करना चाहिए। हम लोगों को उनसे सीखने की जरुरत नहीं है। हम लोग देश के साथ है लेकिन हम लोग यहां केंद्र में काली सूची की मोदी सरकार के समर्थन के लिए नहीं हैं। हम लोग मोदी और अमित शाह का साइनबोर्ड देश से हटाकर दम लेंगे। उन्होंने कहा कि या तो यह देश बचेगा या वे लोग जीत हासिल करेंगे। जल्द ही यह सरकार पराजित होगी, जो देश के हित में होगा।

उन्होंने कहा कि प्रतिदिन भाजपा नेता वेबसाइट पर मेरे धर्म को लेकर टिप्पणी कर रहे हैं। मैं उन्हें यह बताना चाहती हूं कि मेरा धर्म मानवता का धर्म है। हो सकता है कि वे यह नहीं सुन सकते हों क्योंकि उनके हाथ खून से सने हैं। मोदी को गब्बर सिंह बताते हुए उन्होंने कहा कि भाजपा की सरकार के तहत सारी संस्थाएं और मीडिया धमकी के साए में काम कर रहा है। हम लोगों ने बहुत सी सरकारें देखी हैं लेकिन कभी ऐसा प्रधानमंत्री नहीं देखा जो देश के लोगों को आतंकित कर रहा है जैसे वह गब्बर सिंह है। मालूम हो कि बालीवुड की सफल फिल्म शोले के खलनायक का नाम गब्बर सिंह था।

ममता ने कहा कि नोटबंदी के कारण मोदी सरकार के दौरान दो करोड़ से ज्यादा लोग बेरोजगार हो गए हैं और 12 हजार किसानों ने आत्महत्या की है। नौकरी के डाटा और जीडीपी से भाजपा पर छेड़छाड़ का आरोप लगाते हुए ममता ने कहा कि मोदी बाबू को ही यह पता है कि कैसे डाटा मैनीपुलेट किया जाता है। पांच साल समाप्त हो गए हैं... इस सरकार का कार्यकाल (एक्सपाइरी डेट) समाप्त हो ग या है।

Big on Hosting. Unlimited Space & Unlimited Bandwidth

इ-पत्रिका इंडिया इनसाइड
इ-पत्रिका फैशन वर्ल्ड
राष्ट्रीय विशेष
Newsletter