साइबर सुरक्षा और क्रीप्टोलाजी पर दो दिवसीय कार्यशाला का उद्घाटन और वृहत्तर व्याख्यान



दुर्गापुर,
इंडिया इनसाइड न्यूज़।

दुर्गापुर राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान एनआईटी में साईबर सुरक्षा और क्रिप्टीलाॅजी के दो दिवसीय कार्यशाला का उद्घाटन दीप प्रज्वलित कर राष्ट्रीय सांख्यिकी आयोग के निदेशक प्रो• विमल राय तथा एनआईटी दुर्गापुर के निदेशक प्रो• अनुपम बसु ने किया। उद्घाटन भाषण में प्रो• राय तथा प्रो• बसु ने कहा कि आज कंप्यूटर आदि स्मार्ट फोन के जरिये जितना विकास दिखता है उतनी ही अब समाज को क्षति हो रही है। हैकिंग, डाटा चोरी, बैंको से किसी के खाते से रुपये औचक गायब हो जाने से समाज के ज्यादा लोग परेशान हैं और इस तरह के सामाजिक अपराध को रोकने के लिये हम वैज्ञानिक तैयार हैं और नई पीढ़ी के युवा छात्रों से भी आशा करते हैं कि साइबर सुरक्षा केलिए काम करें जिससे साइबर अपराध को रोका जा सके।

विवेकानंद विज्ञान मिशन की उपाध्यक्ष डाॅ• पूरबी मुखर्जी तथा एनआईटी दुर्गापुर की कंप्युटर साइंस विभागाध्यक्ष प्रो• तन्द्रा पाल भी मंचस्थ थी।

उद्घाटन समारोह में अतिथियों का स्वागत विज्ञान भारती की राज्य शाखा विवेकानंद विज्ञान मिशन के कार्यकारिणी के सदस्य तथा इस कार्यशाला के संयोजक डाॅ• अजय कुमार हिमांशु ने स्वागत भाषण दिया जबकि डाॅ• आनन्द पाण्डेय ने सरस्वती वंदना की।

पूरे देश के आईआईटी, ट्रिपल आई टी तथा एनआईटी के तकरीबन डेढ़ सौ छात्र छात्रों ने कार्यशाला के लिये पंजीकृत कराया है। जो आज के दूसरे सत्र में इस विषय पर प्रो• विमल राय, प्रेसीडेसी विश्वविद्यालय के प्रो• अभिषेक अधिकारी, आईआईटी खड़गपुर के प्रो• देव दीप मुखोपाध्याय ने साइबर सुरक्षा पर वृहत्तर वक्तव्य रखा।

विज्ञान प्रसार के सहयोग से होने वाले इस समारोह के समापन सत्र में शनिवार को विज्ञान प्रसार के निदेशक नकुल परासर भी थें। समापन सत्र के पूर्व इस विषय पर विज्ञान प्रसार के रिन्टू नाथ, ट्रिपल आई टी हैदराबाद के प्रो• कन्नान श्रीनाथन, आई एस आई के प्रो• शिवोन चौधरी तथा व्ही जे आई टी मुम्बई के प्रो• धीरेन पटेल ने अपना वक्तव्य रखा।

भारत सरकार के विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग के तहत स्वायत संस्थान विज्ञान प्रसार विज्ञान भारती के बैनर तले राज्य शाखा विवेकानंद विज्ञान मिशन और अखिल भारतीय प्रौद्योगिकी शिक्षा परिसद के सहयोग से दुर्गापुर एनआईटी में हुए इस कार्यशाला की प्रशंसा सभी विज्ञान प्रौद्योगिकी के सभी छात्र-छात्राओं ने प्रमाण पत्र लेते समय की। समापन सत्र में डाॅ• रत्नेश पाण्डेय और संगठन सचिव एम के श्रीप्रसाद भी मौजूद थें।





Image Gallery
Budget Advertisementt