कोरोना को ढाल बनाकर सक्रिय हुए साइबर अपराधी



--अभिजीत पाण्डेय,
पटना-बिहार, इंडिया इनसाइड न्यूज़।

कोरोना वायरस के नाम पर अगर मोबाइल या लैपटॉप पर कोई लिंक आए तो सावधान हो जाएं। क्योंकि साइबर अपराधियों की आप पर नजर है और इसी लिंक के जरिए वो आपके खाते से पैसे उड़ाने का प्लान बना चुके हैं।

दरअसल, अगर आपके मोबाइल पर कोरोना से बचाव के लिए कोई भी लिंक आता है तो आप सावधान हो जाएं क्योंकि वह लिंक तो कोरोना से बचाव के लिए होगा, लेकिन जब आप उस लिंक पर क्लिक करेंगे तो शायद आपके खाते में पैसे नहीं बचेंगे।

इसको लेकर साइबर अपराध विशेषज्ञ ने कहा कि साइबर अपराधियों के द्वारा कोविड लॉक नामक एप्लीकेशन के जरिए भी आपके खाते पर डाका डालने का अंदेशा है। जैसे ही कोई भी ब्लॉक नामक एप्लीकेशन आपके लैपटॉप या मोबाइल पर आएगा और आप उसे अगर क्लिक करेंगे तो, आपका पूरा सिस्टम हैंग कर दिया जाएगा। फिर इसके लिए आपको 100 यूएस डॉलर क्रिप्टो करेंसी के माध्यम से जमा करने होंगे, तभी आपका सिस्टम दोबारा काम करने लायक बनेगा।

कोरोना वायरस को लेकर फैले खौफ पर सावधानी से पार पाया जा सकता है। उसी तरीके से साइबर अपराधियों के भी मंसूबे को जरा सी जागरूकता से फेल किया जा सकता है। ट्रैफिक डीएसपी ने कहा कि किसी भी कीमत पर अपने डेटा क्रेडेंशियल को शेयर ना करें क्योंकि यूपीआई नंबर के जरिए पहले भी फ्रॉड की घटनाएं हो चुकी हैं।

वहीं, साइबर अपराध विशेषज्ञ ने कहा कि किसी भी सॉफ्टवेयर या फिर एप्लीकेशन को बगैर जांच के डाउनलोड ना करें। जो आपके लिए नया हो या फिर आपको उसकी जरूरत ना हो। क्योंकि मन को लुभाने वाले एप्लीकेशन के जरिए आपके खाते पर कर्फ्यू लगाने की तैयारी है।

ताजा समाचार

  India Inside News


National Report



Image Gallery
Budget Advertisementt