इस वर्ष नाग पंचमी पर बन रहे दुर्लभ योग



--डाॅ• इन्द्र बली मिश्र,
काशी हिन्दू विश्वविद्यालय,
वाराणसी-उत्तर प्रदेश, इंडिया इनसाइड न्यूज़।

नाग पंचमी का हिंदू धर्म में बहुत अधिक महत्व माना जाता है। जो इस बार 25 जुलाई को शनिवार के दिन पड़ रही है। इस दिन उत्तरा फाल्गुनी और हस्त नक्षत्र है तथा चंद्रमा की स्थिति कन्या राशिगत है। परिघ और शिव नामक योग होने से नाग पूजन के लिए यह दिन श्रेष्ठ माना जा रहा है। इस दिन नाग देवता की पूजा की जाती है और सर्पों को दूध पिलाने की भी परंपरा है। यह पर्व श्रावण मास की शुक्ल पक्ष पंचमी को मनाया जाता है।

■ कालसर्प दोष से मुक्ति

इस वर्ष नाग पंचमी का पर्व दुर्लभ योग में पड़ रहा है। इस योग में कालसर्प दोष से मुक्ति के लिए पूजा का विधान शास्त्रों में बताया गया है जिससे कालसर्प दोष से मुक्ति प्राप्त होती है।

जिस व्यक्ति की कुंडली में कालसर्प दोष हो उन्हें तमाम कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है, जैसे विवाह में अड़चन, दांपत्य जीवन में कलह, शिक्षा में बाधा, रोग, चोट से परेशान रहना, आर्थिक तंगी नौकरी छूटना, संतान को कष्ट जैसी अनेक समस्याएं आती रहती है।

इस बार नाग पंचमी के दिन कालसर्प दोष निवारण का दुर्लभ योग बन रहा है जो इस दोष से आसानी से छुटकारा दिला सकता है।

जिन लोगों की कुंडली में कालसर्प दोष है उन्हें नाग पंचमी के दिन भगवान शिव का रुद्राभिषेक एवं सर्प का पूजन अवश्य करनी चाहिए।

■ नाग पंचमी का महत्व : मान्यता है कि इस दिन सर्पों को अर्पित किया जाने वाला पूजन नाग देवताओं के समक्ष पहुंच जाता है जिससे नाग देवताओं का आशीर्वाद प्राप्त होता है।

अनन्तं वासुकिं शेषं पद्मनाभं च कम्बलम्।
शङ्ख पालं धृतराष्ट्रं तक्षकं कालियं तथा॥
एतानि नव नामानि नागानां च महात्मनाम्।
सायङ्काले पठेन्नित्यं प्रातःकाले विशेषतः।
तस्य विषभयं नास्ति सर्वत्र विजयी भवेत्॥

अर्थ :- नौ नाग देवताओं के नाम अनन्त, वासुकी, शेष, पद्मनाभ, कम्बल, शङ्खपाल, धृतराष्ट्र, तक्षक तथा कालिया हैं। यदि प्रतिदिन प्रातःकाल नियमित रूप से इनका जप किया जाए तो कालसर्प दोष से मुक्ति मिल सकती है।

● नाग पंचमी पूजा मूहूर्त – 05:39 पूर्वाह्न से 08:22 पूर्वाह्न (25 जुलाई)
अवधि- 02 घण्टे 44 मिनट्स

● पंचमी तिथि प्रारम्भ - जुलाई 24, 2020 को 04:11 अपराह्न बजे से

● पंचमी तिथि समाप्त - जुलाई 25, 2020 को 01:53 अपराह्न बजे तक।

ताजा समाचार

  India Inside News


National Report



Image Gallery
Budget Advertisementt