पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की याद में रहेगा सात दिन का राजकीय शोक



नई दिल्ली,
इंडिया इनसाइड न्यूज़।

भारत सरकार ने 31 अगस्त, 2020 को आर्मी रिसर्च एंड रेफरल हॉस्पिटल, नई दिल्ली में पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के निधन पर गहरे दुख के साथ सात दिन के राजकीय शोक की घोषणा की है।

दिवंगत गणमान्य शख्सियत के प्रति सम्मान के प्रतीक के रूप में पूरे भारत में सात दिन का राजकीय शोक 31.08.2020 से 06.09.2020 तक लागू रहेगा, जिसमें दोनों दिन शामिल रहेंगे। इस अवधि के दौरान भारत में उन सभी भवनों पर राष्ट्रीय ध्वज आधा झुका रहेगा, जहां इसे नियमित रूप से फहराया जाता है और किसी प्रकार का आधिकारिक मनोरंजन नहीं होगा।

राष्ट्रीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार की तिथि, समय और स्थल की सूचना दी जाएगी।

■ प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने पूर्व राष्ट्रपति ‘भारत रत्न’ प्रणब मुखर्जी के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने पूर्व राष्ट्रपति ‘भारत रत्न’ प्रणब मुखर्जी के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया है। प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘पूरा देश ‘भारत रत्न’ प्रणब मुखर्जी के निधन पर शोकाकुल है। उन्होंने हमारे राष्ट्र के विकास पथ पर एक अमिट छाप छोड़ी है। वह एक ऐसे सर्वोत्कृष्ट विद्वान एवं बेहतरीन राजनेता थे जिनका सम्‍मान सभी राजनीतिक दल और समाज के सभी तबकों के लोग करते थे।

प्रणब मुखर्जी ने कई दशकों के अपने लंबे राजनीतिक जीवन के दौरान प्रमुख आर्थिक और रणनीतिक मंत्रालयों में अमिट योगदान दिया। वह एक उत्कृष्ट सांसद थे, जो सदैव सजग रहते थे और इसके साथ ही अत्‍यंत मुखर और हाजिर जवाब भी थे।

भारत के राष्ट्रपति के रूप में प्रणब मुखर्जी ने राष्ट्रपति भवन को आम नागरिकों के लिए और भी अधिक सुलभ एवं सहज बना दिया था। उन्होंने राष्ट्रपति भवन को ज्ञान प्राप्ति, नवाचार, संस्कृति, विज्ञान और साहित्य का एक उत्‍कृष्‍ट केंद्र बना दिया था। प्रमुख नीतिगत मुद्दों पर उनकी ज्ञानपूर्ण सलाह को मैं कभी नहीं भुला पाऊंगा।

वर्ष 2014 में मेरे लिए दिल्ली में सब कुछ नया था। यह मेरा सौभाग्‍य था कि पहले दिन से ही मुझे प्रणब मुखर्जी से व्‍यापक मार्गदर्शन, सहयोग और आशीर्वाद मिला। मैं सदैव उनके साथ अपनी बातचीत की यादों को संजो कर रखूंगा। उनके परिवार, मित्रों और पूरे भारत में उनके प्रशंसकों एवं समर्थकों के प्रति मेरी गहरी संवेदनाएं हैं। ओम शांति।’

■ उप राष्ट्रपति ने प्रणब मुखर्जी के निधन पर गहरा दुख व्यक्त किया

उप राष्ट्रपति एम• वेंकैया नायडू ने पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के निधन पर गहरा दुख व्यक्त किया। एक संदेश में उन्होंने कहा कि श्री मुखर्जी एक ऐसे नेता और भारत के महान बेटे थे, जिन्होंने गरिमा और शिष्टता के साथ सभी पदों की शोभा बढ़ाई। श्री नायडू ने कहा, उनकी मृत्यु के साथ भारत ने एक शानदार नेता खो दिया है।

उन्होंने कहा कि “पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के निधन पर मैं गहरा दुख प्रकट करता हूं। वे एक ऐसे नेता और भारत के महान बेटे थे, जिन्होंने छोटी सी शुरुआत की और कड़ी मेहनत, अनुशासन और समर्पण के दम पर देश से सबसे ऊंचे संवैधानिक पद तक पहुंचे।

श्री मुखर्जी ने अपनी लंबी और प्रतिष्ठित लोक सेवा के दौरान गरिमा और शिष्टता के साथ हर पद की शोभा बढ़ाई। अपने प्रशासनिक कौशल और भारत की संसदीय प्रणाली के प्रति गहरी समझ के लिए पहचाने जाने वाले श्री मुखर्जी ने वित्त मंत्री, रक्षा मंत्री, विदेश मंत्री और योजना आयोग के उपाध्यक्ष सहित कई अहम पद संभाले। राष्ट्रपति के रूप में उन्होंने राष्ट्रपति भवन में नवाचार कार्यक्रमों में भागीदारी के लिए लोगों को प्रोत्साहित किया।

वह संसदीय प्रक्रियाओं, समकालीन राजनीति और अन्य मामलों के इनसाइक्लोपीडिया (विश्वकोष) थे तथा उन्हें उनके विद्वतापूर्ण ज्ञान के लिए जाना जाता था। वह एक उत्कृष्ट सांसद थे और उन्हें उनके वक्तृत्व कौशल के लिए जाना जाता था। उनकी अभूतपूर्व स्मृति और मुद्दों पर पकड़ शानदार थी। उन्होंने लोकतंत्र और विभिन्न संस्थानों को मजबूत बनाने में खासी दिलचस्पी ली। वह निर्विवाद शख्सियतों में से एक थे और उन्हें राजनीति में हर किसी से संपर्क में उपयोग किया जाता था।

उनकी मृत्यु के साथ, भारत ने एक बेहतरीन नेता खो दिया। मैं उनके शोक संतप्त परिजनों के प्रति अपनी गहरी संवेदना प्रकट करता हूं और प्रार्थना करता हूं कि भगवान उन्हें इस दुख को सहने की शक्ति प्रदान करे।”

■ केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने पूर्व राष्ट्रपति, भारत रत्न प्रणब मुखर्जी के निधन पर गहरा दुख व्यक्त किया

केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के निधन पर गहरा दुख व्यक्त किया है। अपने ट्वीट में अमित शाह ने कहा कि “भारत के पूर्व राष्ट्रपति, भारत रत्न प्रणब मुखर्जी जी के निधन से बहुत व्यथित हूँ। वे बहुत ही अनुभवी नेता थे और उन्होने पूरी निष्ठा के साथ राष्ट्र की सेवा की। प्रणब दा का प्रतिष्ठित राजनीतिक जीवन पूरे देश के लिए बहुत ही गर्व की बात है”।

केन्द्रीय गृह मंत्री ने कहा कि “प्रणब दा का पूरा जीवन मातृभूमि की सेवा के लिए समर्पित रहा, वह देश के लिए अपनी निष्काम सेवा और अमिट योगदान के लिए हमेशा याद किये जायेंगे। उनके निधन से भारतीय राजनीति में एक विशाल शून्य उत्पन्न हुआ है। इस अपूरणीय क्षति पर उनके परिजनों और समर्थकों के प्रति हार्दिक संवेदना व्यक्त करता हूँ। ॐ शांति शांति शांति”।

■ देश ने अपने एक बेहतरीन बेटे को खो दिया है: केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के निधन पर शोक व्यक्त किया

केंद्रीय सूचना और प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने भारत के पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के निधन पर शोक व्यक्त किया है। अपने शोक संदेश में केंद्रीय मंत्री ने कहा, “भारत ने अपने महान पुत्रों में से एक, भारत रत्न प्रणब मुखर्जी को खो दिया है। श्री मुखर्जी न केवल एक बुद्धिजीवी थे बल्कि एक निर्णयकर्ता, रणनीतिकार और कई वर्षों तक संसद की रीढ़ थे। उन्होंने शासन और प्रशासन पर अपनी गहरी छाप छोड़ी है। भारत के राष्ट्रपति के रूप में उन्होंने स्पष्ट समझ और गरिमा के साथ अपनी जिम्मेदारी का निर्वाह किया है।”

श्री जावड़ेकर ने उस समय को याद किया जब अपने भाषणों को प्रकाशित करने के लिए उन्होंने श्री मुखर्जी से अनुमति चाही थी और पूर्व राष्ट्रपति ने दयालुता दिखाते हुए अनुमति दी।

ताजा समाचार

  India Inside News


National Report



Image Gallery
Budget Advertisementt