उर्दू अकादमी और घोटाले...



--खुर्शीद मलिक,
डिप्टी डायरेक्टर - कोलकाता पब्लिकेशन डिवीज़न।

हमारे देश में उर्दू के विकास और संवर्धन के लिए कई राज्यों में उर्दू अकादमियों की स्थापना की गई है। अकादमी की स्थापना का केवल एक कारण था और वह है उर्दू का प्रचार प्रसार। लेकिन दुख की बात यह है कि, ज्यादातर राज्य अकादमियां विवादों में घिर गई हैं।

भाई-भतीजावाद, भ्रष्टाचार और राजनीति की खबरें अखबारों और सोशल मीडिया में छाई रहती हैं। 2017 में, लोकप्रिय हिंदी समाचार पत्र जागरण में खबर आई कि, दिल्ली उर्दू अकादमी में भ्रष्टाचार ज़ोरों पर है। डॉ• माजिद देवबंदी ने भी दिल्ली के मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर शिकायत की थी। पत्र में कहा गया है कि एक इफ्तार पार्टी में 2,000 लोगों की उपस्थिति के साथ आयोजित किया गया था, लेकिन अकादमी ने यह संख्या 10,000 पर रखी और अनुमान लगाया कि इफ्तार पार्टी पर लगभग 1 करोड़ रुपये खर्च किए गए थे। मुख्यमंत्री ने जांच कराने का वादा किया था, लेकिन राजनीतिक दबाव के कारण और कुछ सफेद पोश लोगों को बचाने के लिए जांच स्थगित कर दी गई।

यही हाल मध्य प्रदेश उर्दू अकादमी का था। मंजर भोपाली, जिन्हें भारत के सर्वश्रेष्ठ कवियों में से एक माना जाता है, ने अकादमी पर कई आरोप लगाए थे। हिंदी अखबार दैनिक जागरण ने यह खबर भी प्रकाशित की थी कि मध्य प्रदेश अकादमी में उर्दू के नाम पर मिलने वाली धनराशि का इस्तेमाल किसी अन्य उद्देश्य के लिए किया जा रहा है।

इसी तरह, आंध्र प्रदेश उर्दू अकादमी में घोटाले की खबर को राज्य के एक क्षेत्रीय चैनल (एपी 24 × 7) द्वारा विस्तार से दिखाया गया था। पुरस्कार, सेमिनार और अन्य कार्यक्रमों में घोटाले की खबरें भी सोशल मीडिया पर घूम रही थीं।

तेलंगाना उर्दू अकादमी हाल ही में आग की चपेट में आई है। मखदूम पुरस्कार और मौलाना अबुल कलाम आज़ाद पुरस्कार कवियों और लेखकों को देने में घपले हुए। एक लोकप्रिय अंग्रेजी समाचार पत्र डेक्कन क्रॉनिकल ने इस खबर को प्रकाशित किया। सरकार ने जांच के आदेश भी दिए हैं।

मुनव्वर राणा ने कुछ साल पहले उत्तर प्रदेश उर्दू अकादमी से इस्तीफा दे दिया था। मुनव्वर राणा ने एक साक्षात्कार में लोकप्रिय इंडियन एक्सप्रेस अखबार को बताया था कि अकादमी में उर्दू के विकास के लिए कोई काम नहीं था। उन्होंने भ्रष्टाचार के बारे में भी बताया। उन्होंने यह भी कहा कि अकादमी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने अकादमी की वेबसाइट अपने बेटे को बनाने का काम दिया था और अकादमी से 5 लाख रुपये की राशि प्राप्त की गई थी। जबकि वेबसाइट बनाने में 25 या 30 हजार रुपये से अधिक खर्च नहीं होता है।

इसी तरह, कुछ साल पहले, बिहार उर्दू अकादमी में एक घोटाले की खबर जोरों पर थी।

कुछ साल पहले, उड़ीसा उर्दू अकादमी के सात सदस्यों ने अकादमी के काम के संदेह से इस्तीफा दे दिया था।

इसी तरह की खबरें कर्नाटक और अन्य अकादमियों से आती रहती हैं।

एक दिलचस्प बात जो मैंने नोटिस की वो यह है कि, उर्दू अकादमियोँ में भ्रष्टाचार की सभी खबरें हिंदी या अंग्रेजी अखबारों या क्षेत्रीय भाषा के समाचार पत्रों या चैनलों द्वारा प्रकाशित की गई हैं पर उर्दू अखबारों में अकादमी से जुड़े भ्रष्टाचार या घोटालों की खबरें क्यों नहीं हैं? क्या उन्हें डराया जाता है या उन्हें भी भ्रष्टाचार का हिस्सा बनाया जाता है? कारण जो भी हो, यह आश्चर्यजनक है।

पश्चिम बंगाल उर्दू अकादमी में भ्रष्टाचार और घोटालों की खबरें लगभग दो साल से सोशल मीडिया पर चल रही हैं। अकादमी ने आरोपों से इनकार नहीं किया है। पश्चिम बंगाल अकादमी देश की एकमात्र अकादमी है जिसने पांच आरटीआई का जवाब नहीं दिया है। अकादमी के सचिव और उपाध्यक्ष को यह भी पता नहीं है कि आरटीआई का जवाब नहीं देना कानूनी अपराध है। हां, एक बात समझ में आती है कि अगर आरटीआई का जवाब दिया जाता है तो भ्रष्टाचार और घोटाले उजागर होंगे। आरटीआई से सरल प्रश्न पूछे गए थे - उदाहरण के लिए, एक वर्ष में कितने काव्य पाठ और सेमिनार आयोजित किए गए? इसकी क़ीमत कितनी होती है? एक वर्ष के लिए बजट क्या था? अकादमी की वेबसाइट बनाने में कितना खर्च आया? किताबों को छापने में कितना खर्च आया? अकादमी की कार की लागत कितनी थी? संगोष्ठी और कविता के लिए बिरयानी के कितने पैकेट हैं, यह कहां से आया और कुल लागत क्या है? एक वर्ष के दौरान सदस्यों को कितने पैसे दिए गए? कवियों को ग्रैंड होटल में ठहराने के लिए कितने रुपये खर्च करना पड़ा? ग्रैंड होटल (फाइव स्टार होटल) में अकादमी के सदस्यों, मेहमानों और दोस्तों को खिलाने में कितना खर्च आया? पूरे साल में अखबार ए मशरिक़ को कितने लाख या करोड़ों रुपये के विज्ञापन दिए गए? पुस्तक मेले में स्टाल लगाने का ठेका किसे दिया गया? दिल्ली पुस्तक मेले के दौरान, सचिव और सदस्य दिल्ली के दौरे पर गए। उनके विमान किराया, होटल और भोजन के बिल कितने थे? किस अन्य अखबारों में एक वर्ष में कितने रुपये का विज्ञापन दिया गया? अकादमी के सदस्यों की शैक्षणिक योग्यता क्या है? काम करने वाले वाइस चेयरमैन ने किस क्लास तक पढ़ाई की? इसी तरह के सरल सवाल पूछे गए थे लेकिन अकादमी ने जवाब नहीं दिया। लेकिन एक जवाब की कमी ने निश्चित रूप से संदेह को एक घोटाले में बदल दिया। अकादमी के कार्यों में एक काम यह भी है कि राज्य सरकार को उर्दू के विकास और संवर्धन के लिए सलाह दे ताकि सरकार को उर्दू के विकास और संवर्धन के लिए नीति बनाने में मदद मिल सके। जहां तक ​​मुझे पता है, अकादमी ने अभी तक सरकार को ऐसी कोई सलाह नहीं भेजा है।

अब सवाल यह उठता है कि अगर देश में कमोबेश सभी अकादमियों में एक जैसी स्थितियां हैं तो क्या अकादमी होना, रहना जरूरी है? क्या अकादमी की अनुपस्थिति से उर्दू को नुकसान होगा? क्या उर्दू के विकास में उर्दू अकादमी ने वास्तव में मदद की है? क्या सरकार अकादमी के माध्यम से खुद का प्रचार प्रसार नहीं करती है? क्या सरकार ने पार्टी कार्यकर्ताओं के लिए उर्दू के नाम पर भोजन कमाने की व्यवस्था नहीं की है? यदि यह अकादमी का अर्थ और उद्देश्य है, तो इसके बंद होने से उर्दू के स्वास्थ्य पर तनिक भी फ़र्क़ नहीं पड़ेगा ऐसा मुझे लगता है।

ताजा समाचार


  India Inside News


National Report



Image Gallery
Budget Advertisementt