पूर्वांचल में कोरोना से जंग जीतेंगे हम.......



--हरेन्द्र शुक्ला,
वाराणसी-उत्तर प्रदेश,
इंडिया इनसाइड न्यूज़।

● बीएचयू के वरिष्ठ न्यूरोलाजिस्ट प्रो• विजयनाथ मिश्र ने जनजागरुकता के लिए कोरोना वायरस पर बनाया फिल्म, इसके पूर्व भी मिर्गी, लकवा रोग जनजागरुकता के लिए बनी फिल्म नोबेल हाऊस की लाइब्रेरी में

कोरोना वायरस के संक्रमण से कैसे बचें, क्या करें और क्या न करें, इसकी जानकारी होना बेहद अहम है। जनता को जागरूक करने के लिए बीएचयू के सर सुंदरलाल चिकित्सालय के पूर्व चिकित्सा अधीक्षक एवं न्यूरोलाजी विभाग के वरिष्ठ न्यूरोलाजिस्ट प्रोफेसर विजयनाथ मिश्र ने 15 मिनट की डॉक्यूमेंट्री फिल्म पूर्वांचल की कोरोना से जंग, जीतेंगे हम.. तैयार की है। यह फिल्म यूट्यूब चैनल पर भी सब्सक्राइब करके देखा जा सकता है। इसके पूर्व प्रो• मिश्र मिर्गी और लकवा रोग के जनजागरुकता के लिए एक नया दिन, फिर वही दिन फिल्म का निर्माण कर चुके हैं। जिसका तत्कालीन राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी ने लोकार्पण किया था। चिकित्सा क्षेत्र में जनजागरुकता के लिए बनाई गई इन फिल्मों को पूरी दुनिया में हाथों हाथ लिया। खास बात यह रही है कि इन फिल्मों को स्वीडेन के नोबेल हाऊस की लाइब्रेरी में भी जगह बनाने का कीर्तिमान स्थापित किया है।

प्रोफेसर विजयनाथ मिश्र ने बताया कि कोरोना वायरस से बचाने और लोगों को जागरूक करने के लिए राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन नयी दिल्ली के सहयोग से इस डॉक्यूमेंट्री का निर्माण किया गया है। उन्होंने बताया कि कोरोना वायरस के कारण कोविड-19 एक वायरल बीमारी है। इसके लिए वर्तमान में, कोई विशिष्ट उपचार या टीकाकरण उपलब्ध नहीं है।

यह चीन के शहर वुहान में शुरू किया गया था और वर्तमान में यह 2-3 महीने के भीतर दुनिया के 192 देशों में फैला हुआ है, क्योंकि यह महामारी की स्थिति है और कई हजारों लोग पहले ही इसकी वजह से मर चुके हैं। कई लाख संक्रमित हैं और अभी भी हर दिन तेजी से संख्या में बढ़ रहे हैं और यही कारण है कि हमें समुदाय में इस वायरस के संक्रमण को बहुत कुशलता से फैलने से रोकना है। रोकथाम इस बीमारी का एकमात्र इलाज है। पूर्वांचल (पूर्वी उत्तर प्रदेश और पश्चिमी बिहार) में देश और दुनिया के अन्य हिस्सों की तुलना में सबसे अधिक घनी आबादी है। इस क्षेत्र के लोगों को जागरूक करने के लिए हम यह फिल्म भोजपुरी भाषा में बना रहे हैं। हम इस फिल्म के माध्यम से समाज के लोगों के लिए एक मामूली योगदान है।

डॉक्यूमेंट्री के निर्देशक सपन कुमार चटर्जी और असिस्टेंट डायरेक्टर डॉ• सुमिल तिवारी हैं। फिल्म में बीएचयू न्यूरोलाजी विभाग के विभागाध्यक्ष प्रो• रामेश्वरनाथ चौरसिया, सतवीर कौर, रीटा चटर्जी, दिनेश कुमार शर्मा, दीपक कुमार गुप्ता, भरत गुप्ता, ओमकारनाथ संड ने अभिनय किया है।

ताजा समाचार

  India Inside News


National Report




Image Gallery
Budget Advertisementt