भारतीय सेना ने गिलगित निवासी सात वर्षीय बालक आबिद का शव पूरे सम्‍मान के साथ पाकिस्‍तानी सेना के सुपुर्द किया



नई दिल्ली, 12 जुलाई 2019, इंडिया इनसाइड न्यूज़।

नियंत्रण रेखा के पास अछूरा गांव में 09 जुलाई को एक बच्‍चे का शव बरामद किया गया था। भारतीय सेना ने बिना समय गंवाए तुरंत कार्रवाई करते हुए स्‍थानीय प्रशासन की मदद से शव की पहचान नियंत्रण रेखा के पार गिलगित के मिनीमर्ग निवासी आबिद अहमद शेख के रूप में की।

सोशल मीडिया में आई खबरों के अनुसार बालक आबिद 8 जुलाई, 2019 से लापता था और संभवत दुर्घटनावश बुर्जिल नाले में गिर गया था। भारतीय सेना ने मानवता की मिसाल कायम करते हुए आबिद के बारे में तुरंत पाकिस्‍तानी सेना से हॉट लाइन पर संपर्क किया और साथ ही स्‍थानीय मौलवियों और गांव के बजुर्गों को बच्‍चे का अंतिम संस्‍कार तुरंत नहीं करने और उसके शव को उसके परिजनों को सौंपने के लिए मना लिया। इसके बाद स्‍थानीय लोगो ने दवार मस्जिद में बालक आबिद के लिए दुआ की। इस बीच नियंत्रण रेखा के दोनों ओर से लोग आबिद के शव को मानवता के आधार पर उसके परिजनों को सौपने की दिनभर सोशल मीडिया पर गुहार लगाते रहे।

भारतीय सेना के गुरेज स्थित स्थानीय कमांडरों ने 10 जुलाई को आबिद का शव मिनीमार्ग में पाकिस्तानी सेना के कमांडरों को सौंपने का अपनी ओर से हर संभव प्रयास किया, इस कोशिश को सफल बनाने के लिए आखिरकार भारतीय सेना के शीर्ष कमांडरों को हस्तक्षेप करना पड़ा और इसके परिणामस्वरूप 11 जुलाई, 2019 को दुधगई गांव के पास आबिद का शव पाकिस्तानी सेना को सौंप दिया गया।

स्थानीय लोगों ने मानवता की मिसाल कायम करने के लिए भारतीय सेना के प्रयास की सराहना की।





Image Gallery
Budget Advertisementt