केन्द्रीय सूचना आयोग की वार्षिक रिपोर्ट 2018-19 की मुख्य विशेषताएं



नई दिल्ली,
इंडिया इनसाइड न्यूज़।

केन्द्रीय सूचना आयोग (सीआईसी) की वार्षिक रिपोर्ट क्रमशः 20 और 21 नवंबर, 2019 को लोकसभा और राज्यसभा में पेश की गई थी। वार्षिक रिपोर्ट के रुझान इस प्रकार हैं:

समीक्षाधीन वर्ष 2018-19 के दौरान, 13.70 लाख आरटीआई आवेदन पंजीकृत केंद्रीय सार्वजनिक प्राधिकरण (पीए) को प्राप्त हुए थे। आवेदनों की यह संख्या 2017-18 की तुलना में 1,36,922 या 11 प्रतिशत अधिक है।

केंद्रीय सार्वजनिक प्राधिकरण (पीए) ने समीक्षाधीन वर्ष 2018-19 के दौरान संसाधित किए गए आरटीआई आवेदनों में से 4.70 प्रतिशत (64,344) को अस्वीकार कर दिया, जो 2017-18 की तुलना में 5.13 प्रतिशत से गिरकर 0.43 प्रतिशत पर आ गया है।

जनजातीय मामलों के मंत्रालय (26.54%) और गृह मंत्रालय (16.41%) द्वारा सबसे ज्यादा आरटीआई आवेदन खारिज किए गए थे।

समीक्षाधीन वर्ष 2018-19 के दौरान, केंद्रीय सार्वजनिक प्राधिकरण (पीए) को पिछले वर्ष के 9.72 प्रतिशत (1,40,810) की तुलना में 9.29 प्रतिशत (1,51,481) प्रथम अपील (आरटीआई आवेदन के संबंध में) प्राप्त हुए थे।

केन्द्रीय सूचना आयोग (सीआईसी) ने समीक्षाधीन वर्ष 2018-19 में 17,188 दूसरी अपील और शिकायत के मामलों का निपटारा किया। इसी अवधि के दौरान कुल 22,736 मामले भी दर्ज किए गए। वर्ष के अंत में आयोग के पास 29,655 मामले पहले से लंबित थे।

सभी 2,145; आयोग के साथ पंजीकृत सार्वजनिक प्राधिकरणों ने वार्षिक रिटर्न जमा किया है जो 100 प्रतिशत है।

वार्षिक रिपोर्ट की सॉफ्ट कॉपी आयोग की वेबसाइट http://www.cic.gov.in.पर अपलोड की गई है।

ताजा समाचार

  India Inside News


National Report



Image Gallery
Budget Advertisementt