एनसीएमसी ने सुपर चक्रवाती तूफान 'अम्फान' से निपटने की तैयारियों की समीक्षा की



नई दिल्ली,
इंडिया इनसाइड न्यूज़।

कैबिनेट सचिव राजीव गाबा की अध्यक्षता में राष्ट्रीय संकट प्रबंधन समिति (एनसीएमसी) ने सुपर चक्रवाती तूफान 'अम्फान' से निपटने हेतु राज्यों और केंद्रीय मंत्रालयों/एजेंसियों की तैयारियों की गहन समीक्षा करने के लिए सोमवार को दूसरी बार बैठक की।

भारतीय मौसम विभाग (आईएमडी) ने सूचित किया है कि इस ‘सुपर चक्रवाती तूफान’ के 20 मई, 2020 की दोपहर/शाम में 155-165 किलोमीटर प्रति घंटे तक हवा की काफी तेज रफ्तार के साथ पश्चिम बंगाल के तट पर पहुंचने की प्रबल संभावना है। इस दौरान हवाओं की रफ्तार के और भी तेज होकर 185 किलोमीटर प्रति घंटे के उच्‍च स्‍तर पर पहुंच जाने की प्रबल संभावना है। इस वजह से राज्य के तटीय जिलों में अत्‍यंत तेज वर्षा होगी, प्रचंड झोंके वाली हवाएं चलेंगी एवं तूफान और भी अधिक उग्र हो जाएगा।

इस चक्रवाती तूफान से ओडिशा के तटीय जिलों जैसे कि जगतसिंहपुर, केंद्रपाड़ा, भद्रक, जाजपुर और बालासोर के प्रभावित होने की आशंका है। इसी तरह, इस तूफान से पश्चिम बंगाल में पूर्व मेदिनीपुर, दक्षिण एवं उत्तर 24 परगना, हावड़ा, हुगली और कोलकाता जिलों के भी काफी प्रभावित होने का अंदेशा है।

संबंधित राज्य सरकारों के अधिकारियों ने एनसीएमसी को अपने द्वारा किए गए प्रारंभिक उपायों से अवगत कराया। इन अधिकारियों ने यह भी आश्वासन दिया कि उनके पास पर्याप्त मात्रा में खाद्यान्न, पेयजल और अन्य आवश्यक वस्‍तुएं एवं सेवाएं उपलब्ध हैं।

एनडीआरएफ ने ओडिशा एवं पश्चिम बंगाल में 26 टीमों को तैनात कर दिया है और इसके अलावा भी कई अन्‍य टीमें फि‍लहाल इन राज्यों की ओर अग्रसर हैं। ये टीमें आवश्यक सामग्री जैसे कि नाव, पेड़ काटने वाले औजार, दूरसंचार उपकरण, इत्‍यादि से लैस हैं। सेना और नौसेना के बचाव एवं राहत दलों के साथ-साथ नौसेना, वायु सेना और तटरक्षक बल के जहाजों एवं हवाई जहाजों को भी आपात व्‍यवस्‍था के तौर पर रखा गया है।

कैबिनेट सचिव ने राज्यों और केंद्रीय एजेंसियों की तैयारियों की समीक्षा करते हुए निर्देश दिया कि चक्रवाती तूफान के मार्ग में पड़ने वाले निचले इलाकों से लोगों को सुरक्षित निकालने के लिए सभी आवश्यक उपाय किए जाएं और इसके साथ ही आवश्यक आपूर्ति जैसे कि भोजन, पेयजल एवं दवाइयां, इत्‍यादि को पर्याप्त मात्रा में बनाए रखा जाए। एजेंसियों को बिजली और दूरसंचार सेवाओं में व्यवधान की रोकथाम करने का भी निर्देश दिया गया। चक्रवात को लेकर लोगों को आगाह करने के लिए लक्षित एसएमएस की मुफ्त सुविधा और सर्कि‍ल के भीतर रोमिंग की सुविधा प्रदान की जाएगी।

ओडिशा के मुख्य सचिव और पश्चिम बंगाल के प्रधान सचिव ने वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से इस बैठक में भाग लिया। गृह, रक्षा, शिपिंग, बिजली, दूरसंचार एवं स्वास्थ्य मंत्रालयों, आईएमडी, एनडीएमए और एनडीआरएफ के वरिष्ठ अधिकारी भी इस बैठक में शामिल हुए।

एनसीएमसी की बैठक आज फिर होगी जिसमें इस तूफान से उत्‍पन्‍न स्थिति का जायजा लिया जाएगा।

■ तूफान के रास्ते का पूर्वानुमान और तीव्रता निम्न तालिका में दी गई है:

●तिथि/समय (भारतीय मानक समय)
स्थिति (अक्षांश डिग्री उत्तर/ देशांतर डिग्री पूर्व)
निरंतर सतह पर हवा की अधिकतम गति (किमी प्रति घंटे)
चक्रवातीय विक्षोभ का वर्ग

●18.05.20/1730
14.0/86.3
230 से 240 किमी प्रति घंटे की गति से 265 तक
सुपर चक्रवाती तूफान

●18.05.20/2330
15.2/86.5
240 से 250 किमी प्रति घंटे की गति से 275 तक
सुपर चक्रवाती तूफान

●19.05.20/0530
15.9/86.7
240 से 250 किमी प्रति घंटे की गति से 275 तक
सुपर चक्रवाती तूफान

●19.05.20/1130
17.1/87.0
230 से 240 किमी प्रति घंटे की गति से 265 तक
सुपर चक्रवाती तूफान

●19.05.20/1730
17.7/87.2
200 से 210 किमी प्रति घंटे की गति से 230 तक
अत्यंत गंभीर चक्रवाती तूफान

●20.05.20/0530
19.6/87.7
180 से 190 किमी प्रति घंटे की गति से 210 तक
अत्यंत गंभीर चक्रवाती तूफान

●20.05.20/1730
21.8/88.5
135 से 145 किमी प्रति घंटे की गति से 160 तक
काफी गंभीर चक्रवाती तूफान

●20.05.20/0530
23.8/89.1
80 से 90 किमी प्रति घंटे की गति से 100 तक
चक्रवाती तूफान

●21.05.20/1730
25.9/89.8
40 से 50 किमी प्रति घंटे की गति से 60 तक
दबाव

(1) भारी बारिश की चेतावनी:

ओडिशा

तटीय ओडिशा (गजपति, गंजम, पुरी, जगतसिंहपुर और केंद्रपाड़ा जिलों में) में अलग-अलग जगहों पर भारी बारिश के आसार हैं। बारिश ज्यादातर क्षेत्रों में लेकिन उत्तरी तटीय ओडिशा (जगतसिंहपुर, केंद्रपाड़ा, जाजपुर, बालासोर, भद्रक और मयूरभंज जिलों में) में कुछ जगहों पर भारी से बहुत भारी बारिश हो सकती है। 19 मई को खोरधा और पुरी जिलों में भारी बारिश और उत्तरी ओडिशा (भद्रक, बालासोर, मयूरभंज, जाजपुर, केंद्रपाड़ा और क्योंझर जिलों) में 20 मई 2020 को भारी बारिश की संभावना है।

पश्चिम बंगाल

पश्चिम बंगाल में गंगा के तटीय जिलों (पूर्वी मेदिनीपुर, दक्षिण एवं उत्तर 24 परगना) में 19 मई को कई स्थानों पर हल्की से मध्यम बारिश और कुछ जगहों पर भारी वर्षा का अनुमान है। 20 मई को अधिकांश स्थानों पर वर्षा और कुछ स्थानों पर भारी वर्षा तथा पश्चिम बंगाल में गंगा के आसपास (पूर्वी एवं पश्चिमी मेदिनीपुर, दक्षिण एवं उत्तर 24 परगना, हावड़ा, हुगली, कोलकाता एवं समीपवर्ती जिलों) में बहुत भारी वर्षा हो सकती है एवं 21 मई 2020 को अंदरूनी जिलों में कुछ स्थानों पर भारी बारिश हो सकती है।

उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल एवं सिक्किम

20 मई को ज्यादातर जगहों पर हल्की से मध्यम वर्षा तथा माल्दा एवं दिनाजपुर जिलों में कुछ स्थानों पर भारी से बहुत भारी वर्षा होने का अनुमान है और 21 मई 2020 को उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल एवं सिक्किम के अधिकांश जिलों में भारी वर्षा का अनुमान है।

असम एवं मेघालय

21 मई को असम एवं मेघालय के पश्चिमी जिलों में अधिकांश स्थानों पर हल्की से मध्यम वर्षा तथा कुछ स्थानों पर भारी से बहुत भारी वर्षा होने का अनुमान है।

(2) वायु चेतावनी

पश्चिम बंगाल और ओडिशा

दक्षिण ओडिशा के तट के साथ एवं आसपास के क्षेत्रों में हवा 45 से 55 किमी प्रति घंटे की गति (जो बढ़कर 65 किमी प्रति घंटे तक पहुंच सकती है) से चलने का अनुमान है, जो 19 मई की सुबह से उत्तर ओडिशा तट के साथ एवं आसपास और 19 मई की दोपहर से पश्चिम बंगाल तट के साथ एवं आसपास बढ़कर 55 से 65 किमी प्रति घंटे तथा आगे 75 किमी प्रति घंटे तक पहुंच सकती है।

उत्तरी ओडिशा (जगतसिंहपुर, केंद्रपाड़ा, बालासोर, भद्रक एवं मयूरभंज जिलों) तथा पश्चिम बंगाल (पूर्वी एवं पश्चिमी मेदिनीपुर, दक्षिण एवं उत्तर 24 परगना, हावड़ा, हुगली, कोलकाता जिलों) के तटीय जिलों में हवाओं की गति 20 मई की सुबह से धीरे-धीरे बढ़कर आंधी के रूप में तब्दील हो जाएगी और 75 से 85 किमी प्रति घंटे तथा आगे 95 किमी प्रति घंटे तक पहुंच जाएगी। धीरे-धीरे यह बढ़कर उत्तर ओडिशा के उपरोक्त उल्लिखित जिलों में 110 से 120 किमी प्रति घंटे तथा आगे बढ़कर 135 किमी प्रति घंटे तक पहुंच जाएगी।

जमीन पर वर्षा के पहुंचने के दौरान (20 मई की दोपहर से रात तक) 165 से 175 किमी प्रति घंटे तथा बढ़कर 195 किमी प्रति घंटे तक पहुंचने वाली आंधी वाली हवाओं के पूर्वी मेदिनीपुर एवं उत्तर तथा दक्षिण 24 परगना जिलों तथा 100 से 110 किमी प्रति घंटे तथा आंधी वाली हवाओं के पश्चिमी बंगाल के कोलकाता, हुगली एवं पश्चिम मेदिनीपुर में बढ़कर 120 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चलने का अनुमान है।

20 मई 2020 को ओडिशा के पुरी, खोरधा, कटक, जाजपुर जिलों में 55 से 65 किमी प्रति घंटे तथा बढ़कर 75 किमी प्रति घंटे तक चक्रवाती हवाओं के चलने की संभावना है।

गहरा समुद्री क्षेत्र

पश्चिम मध्य बंगाल की खाड़ी के ऊपर 230 से 240 किमी प्रति घंटे तथा बढ़कर 265 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से आंधी वाली हवाओं के चलने का अनुमान है। 18 मई की रात से 19 मई की सुबह तक मध्य बंगाल की खाड़ी के उत्तरी हिस्सों तथा आसपास के उत्तरी बंगाल की खाड़ी में 230 से 240 किमी प्रति घंटे तथा बढ़कर 265 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चल सकती हैं।

200 से 210 किमी प्रति घंटे तथा बढ़कर 230 किमी प्रति घंटे तक पहुंचने वाली आंधी के 19 मई की सुबह तक उत्तर बंगाल की खाड़ी के ऊपर चलने का अनुमान है और फिर धीरे-धीरे घटकर 20 मई की शाम तक 165 से 175 किमी प्रति घंटे तथा बढ़कर 195 किमी प्रति घंटे तक पहुंचने का अनुमान है।

(3) समुद्र की स्थिति

पश्चिम मध्य बंगाल की खाड़ी के दक्षिणी क्षेत्रों में समुद्र की स्थिति असाधारण हैं और अगले 24 घंटों तक ऐसे ही बनी रह सकती है। यह 19 मई को मध्य बंगाल की खाड़ी के उत्तरी भागों तथा आसपास के उत्तरी बंगाल की खाड़ी में जबकि 20 मई 2020 को उत्तरी बंगाल की खाड़ी के ऊपर असाधारण बन जाएगी।

(4) मछुआरों के लिए चेतावनी

मछुआरों को अगले 24 घंटों के दौरान दक्षिण बंगाल की खाड़ी के पश्चिम-मध्य एवं समीपवर्ती मध्य भागों, 19 मई को मध्य बंगाल की खाड़ी एवं 19 से 20 मई 2020 के दौरान उत्तर बंगाल की खाड़ी में न जाने का सुझाव दिया गया है।

इसके साथ ही मछुआरों को 18 से 20 मई के दौरान उत्तर बंगाल की खाड़ी एवं उत्तर ओडिशा, पश्चिम बंगाल और समीपवर्ती बांग्लादेश के तटों एवं क्षेत्रों में भी न जाने का सुझाव दिया गया है।

(5) तूफान बढ़ने के आसार

तटीय क्षेत्रों में तूफान के टकराने के दौरान करीब 3-4 मीटर तक खगोलीय ज्वार के कारण पश्चिम बंगाल के पूर्वी मेदिनीपुर जिले के निचले इलाकों में पानी भरने और 4-6 मीटर खगोलीय ज्वार के कारण दक्षिण और उत्तर 24 परगना के निचले इलाकों में पानी भरने की संभावना है।

(6) नुकसान की आशंका एवं सुझाई गई कार्रवाई

(क) पश्चिम बंगाल (पूर्व मेदिनीपुर, दक्षिण एवं उत्तर 24 परगना, हावड़ा, हुगली, कोलकाता जिलों में)

अपेक्षित नुकसान:

सभी प्रकार के कच्चे मकानों को भारी नुकसान, पुराने ठीक से रखरखाव न किए गए पक्के ढांचों को भी कुछ नुकसान, उड़ने वाली वस्तुओं से संभावित खतरा।

संचार और बिजली के खंभों का बड़ी संख्या में उखड़ना।

कई स्थानों पर रेल/सड़क संपर्क में बाधा।

खड़ी फसलों, बागानों, उद्यानों को व्यापक नुकसान।

ताड़ एवं नारियल के पेड़ों को नुकसान।

बड़े झाड़ी वाले पेड़ों का उखड़ना।

बड़ी नौकाओं और जहाजों के लंगर को नुकसान।

मछुआरों को चेतावनी और सुझाए गए कदम:

18 से 20 मई 2020 तक मछली पकड़ने का काम पूरी तरह स्थगित।

रेल और सड़क यातायात का डायवर्जन या स्थगन।

प्रभावित क्षेत्रों के लोग घरों के भीतर रहें। निचले इलाकों से लोगों की निकासी करना।

मोटर बोट और छोटे जहाजों में आवाजाही उचित नहीं।

(ख) ओडिशा (जगतसिंहपुर, केंद्रपाड़ा, भद्रक, बालासोर, जाजपुर एवं मयूरभंज)

नुकसान का खतरा:

छप्पर वाले मकानों को पूरा नुकसान/कच्चा घरों को व्यापक नुकसान। उड़ने वाली वस्तुओं से संभावित खतरा।

बिजली और संचार के खंभों का मुड़ना/उखड़ना।

कच्ची एवं पक्की सड़कों को भारी नुकसान। रेलवे, ओवरहेड पावर लाइनों एवं सिगनलिंग प्रणालियों में कुछ नुकसान।

खड़ी फसलों, बागों, उद्यानों को व्यापक नुकसान, हरे नारियल के पेड़ों के गिरने और ताड़ के पत्तों के फटने की आशंका, आम जैसे बड़ी झाड़ी वाले पेड़ों को नुकसान।

छोटी नौकाएं, कंट्री क्राफ्ट लंगर से अलग हो सकते हैं।

मछुआरों को चेतावनी एवं सुझाए गए कदम:

18 से 20 मई 2020 के दौरान मछली पकड़ने का काम पूर्ण रूप से बंद।

रेल एवं सड़क यातायात का डायवर्जन या स्थगन।

प्रभावित क्षेत्रों में लोग घरों के भीतर रहें।

मोटर बोट एवं छोटे जहाजों में आवाजाही उचित नहीं।

कृपया सिस्टम के अपडेट के लिए www.rsmcnewdelhi.imd.gov.in और www.mausam.imd.gov.in पर जाएं।

ताजा समाचार

  India Inside News


National Report




Image Gallery
Budget Advertisementt