किन्नर शिव का रूप है और हमारे समाज का ही एक अभिन्न अंग है : प्रसाद पिंप्रीकर



नागपुर-महाराष्ट्र,
इंडिया इनसाइड न्यूज़।

कोविड-19 महामारी में यदि सर्वाधिक ग्रस्त समाज का कोई अंग हुआ है तो वह है किन्नर। ट्रेनों में, त्योहारों में एवं सड़कों पर मंगती करने वाले किन्नर इस जागतिक महामारी से सबसे ज़्यादा पीड़ित हुए हैं।

ऐसे में नागपुर स्थित लालित्य फाउंडेशन व सारथी ट्रस्ट ने मिलकर 251 विभिन्न घरानों के किन्नरों को राशन किट व जीवनावश्यक वस्तुएँ देकर सम्मिलित दिवाली मनाईं।

इस दौरान लालित्य के संस्थापक प्रसाद पिंप्रीकर ने कहा कि किन्नर शिव का रूप है और हमारे समाज का ही एक अभिन्न अंग है। इनकी ओर ध्यान देना ज़रूरी है इन्हें मदद करना आवश्यक है।

सारथी ट्रस्ट की ओर से आनंद चंद्राणी व निकुंज ने भी सभी का आभार व्यक्त किया जिन्होंने इस सम्मिलित दिवाली को सार्थक बनाया।

‘नर सेवा ही नारायण सेवा’ को मानने वाले दोनों ही संस्थाओं के कार्यकर्ताओं के परिश्रम से यह कार्यक्रम सफल हुआ।

ताजा समाचार

  India Inside News


National Report



Image Gallery
Budget Advertisementt